अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस पर लैंगिक समानता हेतु समर्पित

  • November 17, 2020
  • Blog, BLOG
  • No Comments

*अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस क्या है?* हर साल 19 नवंबर को दुनिया भर के पुरुष अपने परिवारों, समुदायों और दुनिया में उनके सकारात्मक योगदान के लिए उन्हें वंदन करते हैं। इसके पीछे मुख्य उद्देश्य पुरुषों के स्वास्थ्य पर ध्यान देना, मानवीय संबंधों में सुधार करना और पुरुषत्व की सकारात्मक अभिव्यक्ति को बढ़ावा देना है।
*भारत में क्यों मनाएं?* ऐतिहासिक रूप से पुरुषों को युद्ध में जाने वाले पहले, जलती हुई इमारत में प्रवेश करने वाले पहले और डूबते जहाज से बाहर निकलने मेन सबसे आखिर इन मूल्यों के साथ पाला-बड़ा किया जाता रहा है। चाहे वह बुनियादी ढाँचा हो या परिवहन या संचार विकास हो, यह सब एक अदृश्य कीमत पर आता है। हर साल हजारों पुरुष कोयला खदानों, रेलमार्गों, सीवरों, सैटेलाइट टावरों और अन्य खतरनाक कार्यस्थलों में अपनी जान गवांते हैं। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, लड़कियों की तुलना में अधिक लड़के प्राथमिक स्तर पर स्कूल से बाहर हो जाते हैं और यह उनकी प्रगति को सीमित करते हुए जीवन के अवसरों को नष्ट कर देता है। बाल तस्करी के शिकार, बाल श्रमिकों से लेकर सस्ते हाथ-मजदूरों के रूप में शोषण होने तक, हमारी सामूहिक चेतना में कुछ ऐसा है जो बालकों और पुरुषों की समस्याओं की अनदेखी करते हुए, उनका इस्तेमाल करके उन्हें फेक दिए जाने जैसा प्रतीत होता है।
दोस्तों, भारत में कोविड से संबंधित मौतों में 65% पुरुष थे। क्योंकि, वे विपरीत और खतरनाक वातावरण में बाहर जाते हैं और इसलिए उन्हें महिलाओं की तुलना में अधिक जोखिम होता है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) द्वारा जारी 2019 की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में दुर्घटनाओं में मरने वालों में 80% पुरुषों है। आत्महत्या करने वालों में से 97,000 (70%) पुरुष हैं। इनमें से, 32.4% पुरुषों ने पारिवारिक कारणों से और 17% पुरुषों ने बीमारी के कारण अपना कीमती जीवन समाप्त कर लिया है। प्रोस्टेट कैंसर कैंसर का दूसरा सबसे आम कारण है और दुनिया भर में पुरुषों में कैंसर से मौत का छठा प्रमुख कारण है। सितंबर 2019 में, प्रोस्टेट कैंसर जागरूकता माह के अवसर पर, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने भारत में प्रोस्टेट कैंसर की घटनाओं पर आंकड़े जारी किए। रिपोर्ट के अनुसार, प्रोस्टेट कैंसर की घटना दर 9-10 / 100000 की आबादी है। एक अध्ययन के अनुसार, भारत भर में संभावित प्रोस्टेट कैंसर के रोगियों की संख्या 2010, 2015 और 2020 के बीच क्रमशः 26,120, 28,079 और 30,185 होगी। पुरुषों में इस तरह की कई स्वास्थ्य समस्याओं के प्रसार के बावजूद, जागरूकता की कमी, स्क्रीनिंग कार्यक्रमों की कमी, नैदानिक ​​सुविधाओं की कमी, परिवार की जरूरतों को अपने स्वास्थ्य के सामने रखने की प्रवृत्ति, ये ऐसे कारण हैं जिनकी वजह से बहुत कम पुरुष वास्तव में अपनी स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर सामने आते हैं। भारतीय कानून पर पुरुषों के मानवाधिकार हेतु आवाज़ उठाने वाले संगठनों द्वारा किए गए विविध अध्ययनों से पता चलता है कि पिछले कुछ वर्षों में नारीवादी कानूनों का दुरुपयोग काफी बढ़ गया है। दहेज, घरेलू हिंसा, यौन उत्पीड़न, बलात्कार, रखरखाव, तलाक, बच्चों की कस्टडी सम्बंधित कानून, ये निष्पक्ष ना होकर पुरुष विरोधी हैं और इनसे परेशान होकर कई पुरुष हताशा से आत्महत्या कर रहे हैं। इसके बावजूद, हमारे देश के सरकार, प्रशासन, विश्वविद्यालयों और अनुसंधान संस्थानों से पुरुष मुद्दों पर शोध और चर्चा के लिए अध्ययन केंद्र अभी भी लापता हैं।
इस तरह के निराशाजनक अंधेरे के बीच, अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस पुरुषों को अपने बच्चों को उनके जीवन के मूल्यों, चरित्र और जिम्मेदारियों को सिखाने के लिए प्रोत्साहित करता है। जब सभी पुरुष और महिलाएं इन मूल्यों और उदाहरण के साथ आगे बढ़ेंगे तभी हम एक न्यायसंगत और सुरक्षित समाज का निर्माण कर सकते हैं जिसमें सभी को समृद्धि के समान अवसर मिल सकें अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस को भारत में इस दृष्टिकोण के साथ मनाया जाना चाहिए।
*कैसे मनाएं?* अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस 2020 का नारा है ‘पुरुषों और बच्चों के लिए अच्छा स्वास्थ्य’। भारतीय पुरुषों के मानवाधिकारों के लिए समर्पित संगठन, वास्तव फाउंडेशन ने, हर साल की तरह इस साल भी, भारतीय समाज में पुरुषों की सकारात्मक भूमिका, उनके स्वास्थ्य और सामाजिक और न्यायिक अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और उनके कल्याण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, नवंबर का महीना मर्दाना भावना के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक ऐसा महीना है जिसमें कई कार्यक्रम पुरुषों के लिए महत्वपूर्ण होते हैं जो दुनिया भर के पुरुषों के संगठनों द्वारा एक साथ मनाए जाते हैं। नवंबर में, हम पुरुषों के स्वास्थ्य के लिए धन जुटाने और उनके कल्याण पर खर्च करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। नवंबर का महीना सभी पुरुषों को ‘नो शेव मंथ’ का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करता है। महीने के अंत में पुरुषों द्वारा ‘मूंछ और दाढ़ी’ को शेव न कराते हुए बचाएं गए पैसे, पुरुषों के लिए काम करने वाले विभिन्न सामाजिक संगठनों को दान करते है। और पुरुषों के कल्याण या बेहद गरीब पुरुषों को भी पैसे या सामग्री दान करने के लिए पुरुषों को प्रोत्साहित करते है। जैसे भारत में बाल दिवस 14 नवंबर को मनाया जाता है, उसी तरह दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता है। इस दिन, पुरुषों (पिता) और बेटों-बेटियों के बीच विशेष संबंध और बच्चों को पालन-पोषण में पिता और अन्य पुरुषों के सकारात्मक महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाते है। वास्तव फाउंडेशन के अनुरोध पर, मुंबई में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस की ऐतिहासिक ईमारत को हर साल पुरुषों को वंदन के रूप में नीली रोशनी से रोशन किया जाता है। इस दिन, विविध पुरुष संगठन भारतीय संविधान, पुरुषों के कानून, पुरुषों के स्वास्थ्य के मुद्दों आदि के साथ-साथ रेल्वे परिसर आदि में रक्तदान शिविर का आयोजन करते है। इसके अलावा, सोशल मीडिया जैसे रेडियो, यूट्यूब, फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर आदि पर पुरुषों के मुद्दों और पुरुषों के अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए विविध आयोजन किये जाते है।

डॉ मिथुन खेरड़े, वास्तव फाउंडेशन
(संपर्क:9819881649,vaastavmithun2019@gmail.com )

Twitter